12 फ़रवरी 2010

शाबस मुम्बई, मेंमिया रहे थे तालीबानी

आखिरकर मुम्बई ने दिखा दिया कि यहां हीरो रहते है। शिवसैनिक मेंमिया रहे
थे। पुलिस की लाठी चटक रही थी और सबसे बड़ी बात कि कबीर बेदी सहित अन्य
कलाकार भी सड़कों पर उतर आये। शाबस मुम्बई। खास कर शाहरूख खान के
समर्थकों ने भी सड़क पर उतर कर शिवसैनिकों के गुण्डागदीZ का विरोध किया।
एक और शाबसी की बात कि भारत बचाओं संगठन ने भी शिवसेना मुख्यालय पर
प्रदशZन कर कल ही जता दिया कि अब तालीबानी की नहीं चलेगा. भैया यह भारत
है पाकिस्तान नहीं। और फिर देश को बंटने की बात करने वालों को विरोध इसी
तरह होना चाहिए। मुम्बई सरकार ने भी हिम्मत दिखाई पर यह राज ठाकरे के साथ
भी दिखाओं भैया यहां राजनीति मत करो, देश का बचाओं राजनीति बच जाएगी। देश
रहेगा तभी राजनीति रहेगी।
अब वेेलेन्टाइन डे पर प्रमोद मुतालिकों की मुख पर कालिख पोतने की तैयारी की जाय..।

सोशल मीडिया छोड़ो सुख से जियो, एक अनुभव

सोशल मीडिया छोड़ो, सुख से जियो, एक अनुभव अरुण साथी पिछले कुछ महीनों से फेसबुक एडिक्शन (सोशल मीडिया एडिक्शन) से उबरने के लिए संघर्ष करना पड़ा...