07 फ़रवरी 2010

घर में आग लगने से बच्ची की मौत तीन जख्मी

शेखपुरा जिले के शेखोपुरसराय मे आज एक हृदय विदारक घटना सामने आयी जिसमें
एक बच्ची अपने ही घर में बुरी तरह जल कर मर गई। कक्षा दो की छात्रा दस
साल की इन्दी कुमारी की मौत अपने ही घर में लगी आग से हो गई। घटना शनिवार
की रात में उस समय घटी जब सुगीया-दारोगीबीघा में लालों पासवान, ललबतिया
देवी तथा उनके पैत्र 15 साल के सिंकदर कुमार एवं पोती 10 साल की इन्दी
कुमार सोयी हुई थी और घर में केरोसीन से जलने वाला दीया जल रहा था। घर
में दरवाजा नहीं होने की वजह से कुत्ते के द्वारा जलता हुआ दीया गिरा
दिया गया और देखते ही देखते पूरा घर जलने लगा। इस घटना में लालो पासवान
उनकी पत्नी ललवतिया देवी तथा पोता सिंकदर भी बुरी तरह जल गए जबकि पोती की
मौत वहीं जलने की वजह से हो गई।
इस घटना में सिंकदर कुमार ने साहस का परिचय देतेे हुए आग में जलने से
अपने दादा और दादी को बचाया और जब वह अपनी बहन को बचाने के लिए जा रही
रहा था कि पूपी झोपड़ी गिर पड़ी और चाह कर भी वह अपनी बहन को नहीं बचा
सका। सिंकदर कहता है कि जैसे ही उसके शरीर में आग का एहसास हुआ तो वह जग
गया और देखा कि उसके घर में आग लग गई तो वह सबसे पहले अपने दादा को बगल
से जगा कर और लगभग खिंचता हुआ घर से निकाला तथा उसके बाद अपनी दादी को भी
निकाला पर वह अपनी बहन को निकालना चाह ही रहा था कि झोपड़ी गिर गई और वह
विवश हो गया।
घटना के बाद बहुत बिलंब से जहां पुलिस घटना स्थल पर पहूंची वही बुरी तरह
जले लालो पासवान का प्राथमिक उपचार भी घटना के बारह घंटे बीत जाने के
बाद भी नहीं हो सका था। ऐंबुलेंस जहां सुबह 9 बजे आयी वही प्रशासन के लोग
भी 10 बजे पहूंचे। हलांकि प्रशासनीक स्तर पर पिड़ित परिवार को 100 किलो
अनाज तथा 2200 रू0 राहत राशि के रूप में दी गई है, तथा मुखीया के द्वारा
1500 कबीर अन्तेष्ठी की राशि दी गई।
इधर घटना का एक पहलू यह भी कि मृतक के माता पिता बिहार से पलायन कर दुसरे
राज्य में कमाने के लिए गए हुए है तथा यहां बच्चों को पढ़ने के लिए छोड़
गए थे। मृतक इन्दी देवी के साथ उसका किताब भी जल कर राख हो गया।

रंडीबाज

रंडीबाज (लघुकथा, एक कल्पकनिक कथा। इस कहानी से किसी व्यक्ति या संस्था को कोई संबंध नहीं है) चैत के महीने में अमूमन बहुत अधिक गर्मी नहीं होत...