13 फ़रवरी 2010

शेखपुरा पहाड़ों के बर्चस्व को लेकर राजद नेता तथा पूर्व मुखीया विजेन्द्र यादव की हत्या

और आखिर कर शेखपुरा पहाड़ों के बर्चस्व को लेकर राजद नेता तथा पूर्व
मुखीया विजेन्द्र यादव की हत्या कर दी गई। सरे आम दिन दहाड़े यह हत्या
विजेन्द्र यादव के गांव बरूई से सटे उनके पत्थर व्यायावसाई के कार्यालय
के पास की गई। विजेन्द्र यादव अपने घर से जैसे ही अपने कार्यालय पहूंचे
ही थे कि पूर्व से ही घात लगाये अपराधियों ने गोली मार दी। तीन की संख्या
में मोटरसाईकिल सवार अपराधियों ने पहले विजेन्द्र यादव को पिछे से पीठ
में गोली मारी उसके बाद गिरने पर माथे मे गोली मार दी। प्रत्यक्षदर्शियों
ने बताया कि अपराधियों में से एक मोटरसाईकिल पूर्व से चालू रखे हुए था
तथा गोली मारने के बाद मोटरसाईकिल पर सवार होकर भाग गए। मृतक विजेन्द्र
यादव की छवि आपराधिक रही है तथा पचना और बरूई क्षेेत्र के पहाड़ पर उनका
दबदबा चलता था तथा उनकी मर्जी के खिलाफ कोई इस क्षेत्र के पहाड़ पर वैध
रूप से भी खनन का काम नहीं कर सकता था। पहाड़ों पर कब्जे को लेकर कई बाद
विजेन्द्र यादव के द्वारा गोलीबारी की कई और बड़ी बड़ी कंपनियों को भी
खदेड़ दिया गया था। ंशेखपुरा पहाड़ पर बर्चस्व को लेकर पहले भी कई बार
गोलीबारी हो चूकी है पर पुलिस की निष्क्रीयता ने अन्तत: विजेन्द्र यादव
की हत्या की परिणति करा दी।

सोशल मीडिया छोड़ो सुख से जियो, एक अनुभव

सोशल मीडिया छोड़ो, सुख से जियो, एक अनुभव अरुण साथी पिछले कुछ महीनों से फेसबुक एडिक्शन (सोशल मीडिया एडिक्शन) से उबरने के लिए संघर्ष करना पड़ा...