08 नवंबर 2010

खबरे शेखपुरा-बिहार की---------------------------निर्दलीय करेगें उलट फेर, खिचड़िया बोट का बोल बाला।

निर्दलीय करेगें उलट फेर, खिचड़िया बोट का बोल बाला।
बरबीघा


हमरा गांव में तो खिचड़िया वोट हो सर सभे के जइतो, कुछ इसी तरह के उद्गार लोग बाग बोल रहें है। राजनीति के पुराने महारथी भी इस चुनाव कें परिणाम को चौंकाने वाला मान रहें है। खास कर जदयू के कब्जे बाली सीट पर जदयू के द्वारा बाहरी प्रत्याशी दिये जाने की वजह से जहां जदयू की सीट हाथ से जाने की चर्चा हो रही है वहीं कांग्रेस प्रत्याशी अशोक चौधरी की मजबूत दाबेदारी का सभी लोहा मान रहे है। अशोक चौधरी का चुनावी मैनेजमेंट सबसे बेहतर है और उनके कार्यकत्ताओं का हौसला भी बुलन्द है। उधर लोजपा राजद गठबंधन के प्रत्याशी सुदशZन के बढ़ते ग्राफ से विरोधियोें के पसीन छूट रहें है। सुदशZन को जहां लोजपा राजद के आधार वोट बैंक का भरोसा है वहीं पिता मुन्ना सिंह के आकिस्मक निधन की सहानुभूति लहर भी।

 जदयू के प्रदेश अध्यक्ष विजय चौधरी जहां स्वयं आकर मोर्चा बन्दी किए हुए है वहीं बागी प्रत्याशी त्रिशुलधारी सिंह दबाब के बाबजूद चुनाव मैदान में मुस्तैदी से डटे रह गए। त्रिशुलधारी सिंह के साथ पंचायत प्रतिनिधियों की लंबी फेहरिस्त है और उनके एक भी समर्थको विरोधी लाख कोशिशों के बाद भी तोड़ नहीं सके। त्रिशुलधारी सिंह की माने तो बरबीघा की जनता के साथ नीतीश कुमार के द्वारा धोखा किया गया है और इसका नतीजा मतदान में सामने आएगा।

जदयू के बागी शिवकुमार निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में लोगों का पसीना छुड़ा रहें है। जानकारों की माने तो शिवकुमार चुनाव परिणाम में उलट फेर करने का मद्दा रखतें है और उनका अपना एक जनाधार भी है। शिवकुमार समाजवादी नेता के रूप में अपनी पहचान रखते है और जिलाभर के लोग इन्हें एक मात्र नेता के रूप में मानतें है। शिवकुमार का जनाधार सभी जाति के लोगों में है और हर गांव में उनके समर्थक है। शिवकुमार को भाकपा और भाकपा माले का साथ भी मिला हुआ है। और भाकपा माले प्रखण्ड सचिव रामकृपाल सिंह उनके लिए चुनाव प्रचार करते हुए गांव धूम धूम कर शिवकुमार को गरीबों का नेता बता रहे है। रामकृपाल सिह की माने तो शिवकुमार गरीबों की सेवा की राजनीति की है और आज भी सिद्वान्त की राजनीति करतें है और बरबीघा का सम्मान इन्हीं कें द्वारा बचाया जाएगा। 

उधर जनता दल सेकुलर नेता विजय कुमार चान्द के साथ दुगाZ प्रसाद धर भी रात दिन एक कर चुनावी समीकरण को बिगाड़ने में लगे है। विजय कुमार चान्द भी इस बात से  खासे नाराज है कि बरबीघा की राजनीति में जनसेवा करने वालों को पार्टियों के  द्वारा नज़र अन्दाज कर दिया गया है। निर्दलीय प्रत्याशी के रूप के रूप में मृत्युजय पटेल भी समाज के बोट का दाबेदार बने हुए है जिसकी वजह से चुनाव परिणाम में उलट फेर होने के आसार है। मामला चाहे जो भी पर जदयू के लिए जीती बाजी हार गए हम किस्मत ही कुछ ऐसी थी बाली हालात नज़र आ रहें है..................

सिक्कों के खनक के बीच आज होगा मतदान, सभी केन्द्र पर कर्मी रवाना
बरबीघा

बरबीघा कें चुनाव का चुनाव एक मायने में सबसे अलग होता है  और वह से सिक्कों की खनखनाती खनक। वैसे तो चुनाव आयोग के द्वारा खर्चे पर सख्त पाबन्दी है पर तू डाल डाल मैं पात पात के तर्ज पर प्रत्याशी ने जम कर रूपये बांटें और इस रेस में कई प्रत्याशी शामिल थे। चुनाव प्रचार के बाद रात रात भर चले सेंटिंग गेंटिग में पैसे की बादशाहत रही है और रूपये बांटने में प्रत्याशियों ने सभी सीमाओं को तोड़ दिया। कहें तो पांच से लेकर पच्चास हजार तक नेताओं और कार्यकत्ताओं के बीच बांटा गया और समाज तथा गांव को गोलबन्द वोट दिलाने का भरोसा लिया गया। चुनाव से पहले आज पोंलिंग ऐजेटों के बीच पैसे बांटें गए। पोलिंग ऐजेंट को पन्द्रह सै से लेकर तीन हजार तक दिया गया। आहिस्ते से चले इस कार्यकर्म पर अंकुश के लिए प्रशासन के द्वारा भी कोइ्र पहल नहीं की गई। कुल मिला कर चुनाव में धन बल का बोल बाला रहा है और मतदाताओं को प्रभावित करने के इस प्रयास का क्या परिणाम आता है वह तो समय बताएगा पर निवेश की इस राजनीति में एक लगाओं तेरह पाओं के तर्ज पर भी काम किया जा रहा है।



जिले के दोनों विधान सभा क्षेत्रों में मतदान आज।
मतदान केन्द्रों पर मतदानकर्मी व सशस्त्र बलों के जवान पहुंचे।
जिले के 3 लाख 86 हजार 585 मतदाता करेंगे 23 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला।
शेखपुरा


जिले के दोनों विधान सभा क्षेत्रों क्रमश: शेखपुरा व बरबीघा के कुल 412 मतदान केन्द्रों पर मंगलवार को निष्पक्ष एवं भयमुक्त व शान्तिपूर्वक मतदान कराने को लेकर सभी मतदान केन्द्रेंा पर सोमवार को मतदान सामािग्रयों व ई.वी.एम. के साथ मतदान कर्मियों व सुरक्षा बलों को भेज दिया गया। सरकारी सूत्रों ने बताया कि दोनों विधान सभा क्षेत्रों में कुल तीन लाख 86 हजार 585 मतदाता मतदान में भाग लेंगे। जिसमें 2 लाख एक हजार 202 पुरूष एवं एक लाख 85 हजार 383 महिला मतदाता है। मतदान के लिये दोनों विधान सभा क्षेत्रों में 407 मतदान केन्द्र तथा 5 सहायक मतदान केन्द्र बनये गये हें मतदान कार्य के संपादन हेतु 22 सौ कर्मियों को लगाया गया है। भयमुक्त व निष्पक्ष मतदान सुनििश्चत करने के लिये 25 कम्पनी बल तैनात किये गये है। मीडिया कोषांग प्रभारी सह अपर जिला जनसंपर्क पदाधिकारी दीपक चन्द्र देव ने बताया कि शेखपुरा विधान सभा में 215 मतदान केन्द्रों पर 2 लाख एक हजार 202 मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग करेंगे। इसमें एक लाख 7 हजार 722 पुरूष तथा 93 हजार 480 महिला मतदाता है। बरबीघा विधान सभा क्षेत्र के 192 मतदान केन्द्रों पर एक लाख 85 हजार 383 मतदाता मतदान में भाग लेगे। इसमें 98 हजार 816 पुरूष तथा 86 हजार 567 महिला शामिल है। जिले के दोनों विधान सभा क्षेत्रों से भाग्य आजमा रहें कुल 23 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला मंगलवार को मतदातागण मतदान करेंगे।

सभी मतदान केन्द्रों पर सुरक्षा के पुख्ता इन्तजाम , निष्पक्ष मतदान में बाधा उत्पन्न करना आसान नहीं।
शेखपुरा

पहली बार विधान सभा चुनाव को लेकर इस जिले में सभी मतदान केन्द्रों पर सुरक्षा के पुख्ता इन्तजाम किया गया है। मतदान के दौरान किसी भी मतदान केन्द्रों पर व्यवधान डालना आसान नहीं लग रहा है। इस बार जिले के 70 प्रतिशत मतदान केन्द्रों को संवेदनशील व अति संवेदनशील चििन्हत करके वैसे मतदान केन्द्रों पर सुरक्षा के विशेष इन्तजाम किये गये है। सभी केन्द्रों के अलावा सघन पेट्रोलिंग के लिए उसे 4 मतदान केन्द्रों पर एक गश्ती दल बनाया गया है। डी.एम. धमेन्द्र सिंह ने बताया कि पंचस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था में मजिस्ट्रेट व अर्द्धसैनिक बलों को लगाया गया है। मतदान में गड़बड़ी पैदा करने वालों से निपटने के लिये पीठासीन पदाधिकारी से लेकर मजिस्ट्रेटों तक को अधिकार सौंपा गया है। कमजोर वर्ग  के वैसे टोलो व गॉवों के मतदाताओं को डराने धमकाने वालों पर निगरानी रखी जा रही है। इस बाबत एस.पी. कुंवर सिंह ने बताया कि भयमुक्त तथा निष्पक्ष मतदान कराने के लिये पूरे जिले में तीन हजार से ज्यादा दागी लोगों को चििन्हत करके उनके विरूद्ध निरोधात्मक कार्रवाई की गई है। जबकि दो हजार दागी लोगों के विरूद्ध बाण्ड डाउन की कार्रवाई की गई है। 

यात्रियों को भारी परेशानी।
शेखपुरा
विधान सभा चुनाव के मद्देनज़र वाहनों के धड़पकड़ तथा यात्री वाहनों के परिचालन पर लगी पावन्दी के बाद जिले के हजारों यात्रियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। हजारों यात्री पैदल टमटम तथा झरझरी वाहन पर सवार होकर यात्रा कर रहे है। वहीं टांगा चालकों व झरझरी कोच वालों द्वारा चार गुना भाड़ा यात्रियों से वसूल किया जा रहा है। खासकर छठव्रत में शामिल होने के लिये वाहन से आने वाले लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। 


पूर्व प्रधान मन्त्री एच.डी. देवगौड़ा, राहुल से लेकर नवोदित तजस्वी ने जिले में पसीना बहाया
शेखपुरा

जिले के बरबीघा और शेखपुरा विधान सभा क्षेत्र के मतदाताओं पर डोरे डालने को लेकर जिला के प्रमुख नेताओं से लेकर दिल्ली की गद्दी  पर राज करने वाले नेताओं ने ऐड़ी-चोटी का पसीना बहाया। जिले के मतदाताओं ने आज तक इतने नेताओं का दौरा कभी नहीं देखा था। शेखपुरा जिले के दोनों सीटों की जीत हासिल करने को कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव राहूल गॉधी से लेकर राजनीति के नवोदित नेता व राजद सुप्रीमों लालू प्रसाद के पुत्र तेजस्वी को भी शेखपुरा की धरती पर पसीना बाहाना पड़ा। दोनों विधान सभा शेखपुरा और बरबीघा में स्टार प्रचारकों को दो-दो बार तक आना पड़ा। जिनमें जदयू नेता व राज्य के मुख्यमन्त्री नीतीश कुमार तथा राजद सुप्रीमों लालू प्रसाद का नाम मुख्य रूप से शामिल रहा। इनके अलावे यहां राहुल गॉधी, मुकुली वासनिक महबुब अली कैसर, अनिल शर्मा, राजब्बर, रंजीता रंजन, चन्द्र अशोक राज, प्रकाश सिंह, विनोद शर्मा महाचन्द्र प्रसाद सिंह ने जहॉ कांग्रेस प्रत्याशी के पक्ष में दौरा करने वालों में शामिल रहे। वही राजद प्रतयाशी के पक्ष में लालू प्रसाद, रामविलास पासवान, अब्दूल बारी सिद्धकी, राबड़ी देवी तथा उनके पुत्र तेजस्वी ने पसीना बहाया। वही जदयू प्रत्याशी के पक्ष में मुख्यमन्त्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमन्त्री सुशील कुमार मोदी, केन्द्रीय नेता रविशंकर प्रसाद, विधान पार्षद हीरा बिन्द, तैलिक समाज के प्रदेश अध्यक्ष नरेश साव ने दौरा किया। वही जनता दल सेक्युलर के प्रत्याशी के पक्ष में पवूZ प्रधानमन्त्री एच.डी. देवगौड़ा का नाम भी यहॉ आने वालों शामिल रहा।

कुल तेइस प्रत्याशियों के किस्मत का फैसला आज।
386585 मतदाता करेंगे मत का प्रयोग। 
शेखपुरा
मंगलवार को शेखपुरा जिले के मतदाता शेखपुरा एवं बरबीघा विधान सभा से किस्मत आजमा रहे कुल 23 प्रत्याशियों की भाग्य का निर्णय ई.वी.एम. मशीन का बटन दबाकर करेंगे। शेखपुरा विधान सभा क्षेत्र में किस्मत आजमा रहे कांग्रेस के प्रत्याशी सुनीला देवी, जदयु के रणधीर कुमार सोनी, राजद के ललन साव, पीपीआई के जितेन्द्र नाथ, बसपा के हसीबुर रहमान, भाकपा माले के कमलेश कुमार मानव, जनता दल सेक्युलर के डा0 दिनेश प्रसाद राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के शिवली खॉ, निर्दलीय के रूप में लड़ रहे चन्द्र भूषण कुशवाहा, रिंकु देवी, मनोज राम, जगदेव प्रसाद के भाग्य को ईवीएम मशीन बन्द करेगे। जबकि बरबीघा विधान सभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में आशोक चौधरी, जदयू से गजानन्द शाही उर्फ मुन्ना शाही, लोजपा से सुदशZन कुमार बसपा से संजय गूप्ता, सपा से रोजश कुमार, जनता दल सेक्युलर से विजय कुमार चॉद, निर्दलीय प्रत्याशी त्रिशुल धारी सिंह, त्रिभूवन कुमार, शिवकाुमार, मृत्यूजंय कुमार अमर नाथ सिंह की किस्मत का फैसला करेंगे। कुल तेइस प्रत्याशियों के कुल तीन लाख छियासी हजार पॉच सौ पचासी मतदाता इन प्रत्याशियों के भाग्य के फैसला के लिए अपने मत का प्रयोग करेंगे। जिनमें कुल दो लाख एक हजार दो सौ दो पुरूष तथा एक लाख पचासी हजार तीन सौ तेरासी महिला शामिल होगी। 

2 टिप्‍पणियां:

  1. zyada sochne ki jarurat nahi hai. Kayonki jo jitega wahi sikandar hoga.

    जवाब देंहटाएं
  2. मेरे एक मित्र जो गैर सरकारी संगठनो में कार्यरत हैं के कहने पर एक नया ब्लॉग सुरु किया है जिसमें सामाजिक समस्याओं जैसे वेश्यावृत्ति , मानव तस्करी, बाल मजदूरी जैसे मुद्दों को उठाया जायेगा | आप लोगों का सहयोग और सुझाव अपेक्षित है |
    http://samajik2010.blogspot.com/2010/11/blog-post.html

    जवाब देंहटाएं

अग्निपथ पे लथपथ अग्निवीर

भ्रम जाल से देश नहीं चलता अरुण साथी सबसे पहले अग्निपथ योजना का विरोध करने वाले आंदोलनकारियों से निवेदन है कि सार्वजनिक संपत्तियों का नुकसान ...