17 नवंबर 2010

नेता जी..

नेता जी

परम् आदर-णीय नेता जी करते हैं राज-नीति,

किस तरह किया जाय राज, बनाई है एक नीति।


क्षेत्र के दबंगों को इनका हैं संरक्षण,
विकास मद का साथ साथ कर रहे हैं भक्षण।

ब्युरोके्रटों से इनका गहरा सम्बंध है,
कुछ तुम खाओ,
कुछ  हम खायें, यही अनुबंध है।

इसी तरह से चलता इनका तन्त्र है
ठेकेदार, डीलर और चम्मचे खास इनका यन्त्र है।

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत पसन्द आया
    हमें भी पढवाने के लिये हार्दिक धन्यवाद
    बहुत देर से पहुँच पाया .............माफी चाहता हूँ..

    उत्तर देंहटाएं

जो लोग अपने मां—बाप को प्रेम दे पाते हैं, उन्हें ही मैं मनुष्य कहता हूं..

ओशो को पढ़िए आपने कल माता और पिता के बारे में जो भी कहा , वह बहुत प्रिय था। माता—पिता बच्चों को प्रेम देते हैं, लेकिन बच्चे माता—पिता को प्र...