16 नवंबर 2010

दुनिया का अनोखा जुआ मेला।

शेखपुरा (बिहार)

 शेखपुरा जिले के बरबीघा थाना के गौशाला मैदान में छठ के परणा दिन से सजा जुआ मेला तीन दिनों तक चलता है और पुलिस नज़राना बसुलती है। सामाजिक विकृति के रूप प्रचलित यह जुआ का मेला सुबह से लेकर देर रात तक चलता है जिसमें भाग लेने के लिए दूर दूर के गांव से लोग आते है साथ ही नगर के लोग भी बड़ी मात्रा में जुआ खेलते है। इस जुआ मेला में कई ने हार का सामना किया तो कई जीत कर घर चले गए। जुआ मेला गौशाला मैदान से लेकर बगीचों में लगाया गया जहां झुण्ड के झुण्ड लोग जुआ खेलते देखे गए। जुआ में खास तौर पर झण्डी मुण्डी और ताश पर लोग जुआ खेलते नज़र आये। 
इस संबध में लोगों की माने तो सौ साल से पहले से ही यह जुआ मेला यहां लगता आ रहा है और इसकी ख्याती कई जिलों में है। जुआ मेला को प्रशासन की मौन सहमति भी होती है और उसके लिए नज़राने की व्यवस्था सभी जुआ संचालको के द्वारा किया जाता है।

रंडीबाज

रंडीबाज (लघुकथा, एक कल्पकनिक कथा। इस कहानी से किसी व्यक्ति या संस्था को कोई संबंध नहीं है) चैत के महीने में अमूमन बहुत अधिक गर्मी नहीं होत...