30 दिसंबर 2010

शेखपुरा.... चोरी का नायब तरीका पहले दोस्ती फिर अपने को अधिकारी बना अपनी गाड़ी में बैठा का लूटते है। अर्न्तराज्यीय गिरोह का तीन शातीर घराया। नशाखुरानी पर कसे सिंकजे पर शातीर ने अपना नायब तरीका अल्टो गाड़ी से देते है लूट को अंजाम।

इस चेहरे को ध्यान से पहचान लिजिए। गौर से देखिए। जेनटल मैन दिखने वाले ये लोग शातीर चोर है और कहीं भी  आपसे दोस्ती गांठ कर आपको लूट सकते है।

सावधान हो जाइए

बैंक अधिकारी बन  आपको घर तक अल्टो से छोड़ने का का झांसा देकर बनाता है लूट का शिकार।

जी हां जिले में लूट का शिकार बनाने का एक नया तरीका सामने आया है। ऐस तरीका जिसमें पहले रेलयात्री बन रणजीत कुमार पहले लक्खीसराय निवासी इंद्रदेव  तांती से दोस्ती की फिर उसे बताया कि शेखपुरा की सभी सड़क का जाम कर दिया गया है और इसका कारण बताया की कुख्यात शातीर अपराधी अशोक महतो के द्वारा पुलिस जीप को फुंक दिया गया है जिससे ऐसा हुआ है। फिर जब इंद्रदेव घर की समस्या बताता है तो रणजीत कहता है  िकवह एक बैंक अधिकारी है और वह भी उसी तरफ जा रहा है जिधर उसका घर है और उसको लेने के लिए उसके दोस्त अल्टो गाड़ी से आये हुए है। फिर क्या था उजैन से कमाई कर लौट रहे इंद्रदेव उसके साथ अल्टो गाड़ी पर सवार हो गया। फिर रणजीत उससे कहता है कि उसके बैग में पैंतिस हजार रूप्या हे और उसे वह बैंक में ही जमा कराने जा रहा है और इसके बाद इंद्रदेव ने भी बता दिया कि उसके सुटकेस में 9000 रू. है और फिर थोड़ी देर में अल्टो गाड़ी को रोका गया और इंद्रदेव को थोड़ी देर के लिए उतर जाने के लिए कहा गया और साथ ही उसे अपना बैग जिसमें 35000 रू. रखा था उसे रखने के लिए दिया और उसकी अटैची गाड़ी में रखा और फिर गाड़ी बढ़ा दी।

और फिर जब इंद्रदेव में बैग खोल कर देखा तो उसमें बेकार कपड़े थे। फिर उसे लूट जाने का एहसास हुआ तथा फिर चिल्लाना शुरू किया और इसी क्रम में स्थानीय लोगों की पहल पर रास्ते में पड़ने वाली सिरारी ओपी पुलिस को इसकी सूचना दी और रास्ते में चोर गिरोह को पकड़ा गया।

मामले में बक्तीयारपुर निवासी रणजीत कुमार, तथा वहीं का कपील पासवान एवं बाढ़ निवासी चालक रवि पासवान को गिरफ्तार किया गया।

गिरफ्तार चोरों ने इस तरह के नायाब चोरी की बात स्वीकार की तथा कहा कि वह घूम घूम कर इसी तरह से लोगों को दोस्ती कर फंसाता है और उसे लूटता है। वे लोग बिहार के कई जिलों से लेकर उत्तर प्रदेष के कई रेलवे स्टेशन पर इस घटना को अंजाम देता है। यह लोग ऋसीकेष में भी एक बार इस तरह के मामले में पकड़ा जा चुका है और जमानत पर छूट कर फिर दूसरी जगह इस तरह का काम करता है। 

ये लोग इतने शातीर है कि एक जगह एक से दो बार ही इस तरह की घटना को अंजाम देते है।

शानदार अल्टो गाड़ी से लूट को अंजाम देने वालों ने बताया कि पहले नशाखुरानी का काम करते थे पर आब उसमें कड़ाई हो गई है तो इस तरह की नायाब चोरी करता है।

पत्रकार शांतनु भौमिक की हत्या और विरोध के मुखौटे

पत्रकार शांतनु भौमिक की हत्या और विरोध के मुखौटे ............................... एक महीने के भीतर फिर एक पत्रकार मारा गया है. इस बार बुरी ...