15 जनवरी 2011

मेरे देश में



मेरे देश में

पिज्जा
एम्बुलेंस से पहले पहूंचती
लूट के बाद पुलिस सजती

मेरे देश में
कार लोन पांच परसेंट पर
एडुकेशन लोन बारह पर मिलती

मेरे देश में
चावल बिकता चालीस रूपये
सिम है मुफ्त में मिलती

मेरे देश में
रही नहीं उम्मीद कहीं अब
चौथेखंभे  से लेकर न्याय तलक है बिकती
मेरे देश में.......


7 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर, सुन्दर, बिलकुल सही बात!
    मकर संक्रांति की शुभकामनायें!

    जवाब देंहटाएं
  2. देश की शर्मनाक व्यवस्था पर करारा व्यंग !

    जवाब देंहटाएं
  3. कविता अच्छी है!
    भगवान कुछ ऐसा कर दे कि पिज़ा की आहट से मरने वाला जी उठे...

    जवाब देंहटाएं

अग्निपथ पे लथपथ अग्निवीर

भ्रम जाल से देश नहीं चलता अरुण साथी सबसे पहले अग्निपथ योजना का विरोध करने वाले आंदोलनकारियों से निवेदन है कि सार्वजनिक संपत्तियों का नुकसान ...