03 जनवरी 2010

आंखे

मुझे ऐसा क्यूं लगता है
कुछ कहती है तुम्हारी आंखे।

क्यों प्रफुिल्लत होता है अंतर मन
जब मिलती है हमारी आंखे

क्यों अंत: की वेदना
सिमट जाती है
जब सामने होती है तुम्हारी चंचल आंखे

पता नहीं कोई बोत है
शायद प्रेम
जो कर बैठी है हमारी आंखे।।

हलाला बनाम बलात्कार

हलाला बनाम बलात्कार (अरुण साथी) पिता समान ससुर से सेक्स की बात को मजहब के आड़ में हलाला बता सही ठहराते हो हो शैतान और तुम मुल्ले-मौ...