03 जनवरी 2010

आंखे

मुझे ऐसा क्यूं लगता है
कुछ कहती है तुम्हारी आंखे।

क्यों प्रफुिल्लत होता है अंतर मन
जब मिलती है हमारी आंखे

क्यों अंत: की वेदना
सिमट जाती है
जब सामने होती है तुम्हारी चंचल आंखे

पता नहीं कोई बोत है
शायद प्रेम
जो कर बैठी है हमारी आंखे।।

वोट बैंक में बदला धर्म लोकतंत्र का जहर

वोट बैंक में बदला धर्म लोकतंत्र का जहर अरुण साथी ताजिया को अपने कंधे पर उठाए मेरे ग्रामीण युवक बबलू मांझी रात भर जागकर नगर में घूमता रहा। ...