18 जनवरी 2010

वर्तमान समर के सदंर्भ में

समर भूमि में
सत्य की पराकाष्ठा
कर्ण की परिणति की पुर्नावृति होगी।

और
असत्य की पराकाष्ठा
बनाएगा `दुर्योधन´-
कालखण्डों का खलनायक।

शेष
कृष्ण की तरह
सत्य से प्रतिवद्ध
असत्य से स्पृह
अस्पृह
किसी के भगवान होने की अभिप्सा से
छल और छला कर भी जो सत्य-विजय का संधान किया।

कर्ण भले कहलाया महायोद्धा
दानवीर
पर समर में वह पराजित कहलाया।

अर्जुन का गाण्डीव जो रूकता
सत्य का पराभव नहीं होता?
कर्ण
प्रलम्भन से खेत न जाता
तो असत्य को कौन हराता?
अस्वथामां और गुरू द्रोण
दुर्याेधन और पितामह भीष्म
के साथ अगर प्रवंचन न होता
तो परिकल्पित होता
``पृथक महाभारत´´।

सोशल मीडिया छोड़ो सुख से जियो, एक अनुभव

सोशल मीडिया छोड़ो, सुख से जियो, एक अनुभव अरुण साथी पिछले कुछ महीनों से फेसबुक एडिक्शन (सोशल मीडिया एडिक्शन) से उबरने के लिए संघर्ष करना पड़ा...