04 जनवरी 2010

पाती प्रेम की

पाती प्रेम की

तुम्हारे सौंदर्यबोध में मैंने बहुत से शब्द ढूंढे़

अपनी भावनाओं को कोरे कागज पर बारम्बार उकेरा

फिर उसके टुकडे़-टुकड़े किए

हर बार शब्द शर्मा जाते........

फिर इस तरह किया मैंने

अपनी भावनाओं को अभिव्यक्त

गुलाब की अबोध-नि:शब्द पंखुड़ी को

लिफाफे में बंद कर तुम्हें भेज दिया..........

रामखेलावन चच्चा का वायरल टेस्ट

(व्यंग्य:अरुण साथी) चच्चा रामखेलावन परेशान होकर पूछने लगे। "आंय हो मर्दे ई वायरल की होबो हई!आझकल बुतरू सब बरोबर बोलो है!" रामख...