29 जनवरी 2010

सानीया की टूटी सगाई- आपको भी हो बधाई।

जैसे ही मेरे एक मित्र ने सानीया की सगाई टूटने की खबर सुनी उनकी बांछे
खिल गई और तुरन्त महोदय ने मुझे फोन लगाया, बोले बधाई हो सानीया की सगाई
टूट गई। पहले तो मैं अकचकाया पर फिर बात समझा, तो महोदय से बोला कि भला
सानीया की सगाई टूटने से आप इतने खुश क्यों है। मित्र महोदय ने अपने दिल
के अरमान उड़ेल दिया वैसे ही जैसे किसी ने पानी भरे मटको को पत्थर मार कर
फोड़ दिया हो। कई तरह की उपमांऐं दी जिसे मैं यहां नहीं दे सकता। अब
मैंने भी कुछ सवाल महोदय से पूछ ही डाला। मैने पूछा भला बताओं तो सानीया
किस लिए प्रसिद्ध है तो महोदय ने छूटते ही जबाब
दिया-फुटबाल......................।
मैने अपने मित्र महोदय को बताया सानीया की सगाई तो टूटनी ही थी भला बताओं
तो जब सानीया टेनिस कोर्ट में पहले ही राउण्ड में बाहर हो रही है तो
सोहराव को यह खुशफहमी थी कि वह फाइनल राउण्ड खेलेगा तो दोषी वह खुद ही
है। सानीया को वैसे ही सनसनी कही जाती है, किस लिए यह तो कहने वाले ही
बताएगें पर जो लोग टेनिस का ट भी नहीं समझते उनके मोबाइल के बालपेपर में
सानीया सनसनाती रहती है। सानीया की सगाई क्या टूटी अपना मसूदन भाई चाय की
दूकान पर दलीलें देते नहीं थक रहे थे। कह रहे थे कि भला बताइए तो, यह
सगाई नहीं टूटती तो कैन टूटती। कितनों की बददुआऐं सोहराब ने ली थी। जब से
फुटबाल प्रेमियों ने सानीया की सगाई की खबर सुनी तभी से सभी इसके टूटने
की दुआ मांग रहे थे और उपरवाले ने इसे सुन ली। सानीया ने कितनों का दिल
टूटने से बचा लिया।
धन्य हो मिडिया गुरूघंटाल आप भी एक दम रपेट दिया। सगाई टूटने की खबर को,
ऐसे रपेटा जैसे एक भी आशीक छूट गया सानीया का दिल टूट गया। कितने
परोपकारी है , एक दम भांप लेते है कि युवाओं के दिलों में क्या धड़कता है
और सानीया की सनसनी का तो बात ही निराला है।
जय हो मिडिया गुरूघंटाल.............

सोशल मीडिया छोड़ो सुख से जियो, एक अनुभव

सोशल मीडिया छोड़ो, सुख से जियो, एक अनुभव अरुण साथी पिछले कुछ महीनों से फेसबुक एडिक्शन (सोशल मीडिया एडिक्शन) से उबरने के लिए संघर्ष करना पड़ा...