11 जनवरी 2010

चलो तो सही

चलो तो सही

कहीं जाना है तुम्हें
रास्ते नहीं मिलते,
तो क्या
चलो तो सही चलना ही रास्ता है।
एक एक कदम
मंजील की ओर
सिर्फ तुम्हीं नहीं चलते
मंजील भी चलती है तुुम्हारी ओर।
चलो तो सही
चलना ही रास्ता है।

रंडीबाज

रंडीबाज (लघुकथा, एक कल्पकनिक कथा। इस कहानी से किसी व्यक्ति या संस्था को कोई संबंध नहीं है) चैत के महीने में अमूमन बहुत अधिक गर्मी नहीं होत...