11 जनवरी 2010

चलो तो सही

चलो तो सही

कहीं जाना है तुम्हें
रास्ते नहीं मिलते,
तो क्या
चलो तो सही चलना ही रास्ता है।
एक एक कदम
मंजील की ओर
सिर्फ तुम्हीं नहीं चलते
मंजील भी चलती है तुुम्हारी ओर।
चलो तो सही
चलना ही रास्ता है।

पत्रकार शांतनु भौमिक की हत्या और विरोध के मुखौटे

पत्रकार शांतनु भौमिक की हत्या और विरोध के मुखौटे ............................... एक महीने के भीतर फिर एक पत्रकार मारा गया है. इस बार बुरी ...