23 सितंबर 2021

यात्रा वृतांत:1: जो कहते हैं आजादी अभी अधूरी है उनको जालियांवाला बाग आना चाहिए

यात्रा वृतांत:1: जो कहते हैं आजादी अभी अधूरी है उनको जालियांवाला बाग आना चाहिए

अरुण साथी

यात्रा वृतांत की शुरुआत चौथे दिन से कर रहा हूं। पीछे का वृतांत अगली कड़ी में पेश करूंगा । 

चौथे दिन बुधवार को हम लोग अमृतसर शहर में थे। अमृतसर शहर दो हिस्सों में बंटा हुआ दिखाई दिया। एक हरमंदिर साहिब के आसपास का अंतरराष्ट्रीय दृश्य का मनमोहक अमृतसर तो दूसरा बाहरी बाजार में आम भारतीय बाजार जैसा गंदगी और कांय-किच।
सबसे पहले जालियांवाला बाग की बात। बहुत ही रोमांचक और भावुक। हालांकि पर्यटकों को लुभाने के लिए जालियांवाला बाग को एक अत्याधुनिक साज-सज्जा भी दिया गया है परंतु अंदर में जाने के बाद हर कोई भावुकता से भर जाता है।
हालांकि हर कोई कहना उचित भी नहीं होगा। कुछ नए कपल यहां केवल पिकनिक स्पॉट के रूप में घूमने के लिए आए हुए नजर पड़े। कुछ-कुछ पार्क के जैसा।

वर्तमान के बदलते दौर में ऐतिहासिक स्मरण के स्थल हो या धार्मिक स्थल। मोबाइल, सेल्फी और दिखावा इससे अलग नई पीढ़ी के लिए यहां कुछ भी नहीं होता। धार्मिक स्थलों पर भी पहली प्राथमिकता सेल्फी और फोटो खिंचवाने के दिखाई पड़ती है। हरमंदिर साहिब में भी यही कुछ रहा और जालियांवाला बाग में भी। मन को मारते हुए भी कई तस्वीरें खींचनी ही पड़ी। कुछ तस्वीर अपनी भी। 
खैर, जालियांवाला बाग आजादी के दीवानों के कुर्बानियों की जीवंत निशानी है। जिन्होंने देश के आजादी में योगदान देने के लिए हंसते-हंसते अपना बलिदान दे दिया। 

संकीर्ण रास्ते से आए जनरल डायर ने गोलियों की तड़तड़ाहट से सैकड़ों लोगों को भूंजा दिया। जान बचाने के लिए कई लोग जिस कुआं में कूदे।  वहां जाकर कौन भावुक नहीं होगा। लाशों से वह कुआं भर गया था।

हमारी भावना और आस्था देशभक्ति को भी धर्म से कम नहीं मानती तभी तो हम लोग भारत माता की प्रतिमा स्थापित कर पूजा भी करते हैं ऐसा ही कुछ कुछ जालियांवाला बाग में दिखा।


कुएं को सजा संवार कर खूबसूरत बना दिया गया है परंतु भावनात्मक लोग यहां पहुंच कर सेल्फी तो लेते ही हैं यहां आस्था से प्रभावित होकर रुपये भी कुएं में गिरा देते हैं। आसपास नोट भी पड़े हुए दिखाई पड़े और कुआं के अंदर भी नोट गिरे हुए हैं मिलते हैं।


जालियांवाला बाग की दीवारों पर गोलियों के निशान को चिन्हित कर दिया गया है। इस निशानी को देख कर किसकी आंखें नहीं भर आएगी। बेरहम गोलियों ने सब को छलनी कर दिया।


एक म्यूजियम जैसा बनाया गया है। वहां जालियांवाला बाग कांड का फिल्मांकन कर उसकी प्रदर्शनी लगातार होती रहती है। एक चौंकाने वाली बात यह भी नजर आई कि म्यूजियम में प्रभावित लोगों के परिवार वालों के बयान को लिखित रूप से उद्धृत किया गया है। सोचने की बात यह कि उसमें बयान देने वालों के नाम के साथ जाति का जिक्र किया गया है। पता नहीं इसके संयोजकों ने ऐसा क्यों किया? जाति का विवरण मुझे असहज ऐसा लगा।


"डायर की गोलियों ने हिंदू और मुसलमानों में कोई भेद नहीं किया।" टी एस कार

सबसे पहले इसी पर नजर पड़ी। शायद देश की अखंडता और एकता के संदेश को लेकर यह बोर्ड जालियांवाला बाग में लगाया गया है। इसके साथ ही कई महापुरुषों के वक्तव्य को जगह-जगह बोर्ड में लगाया गया है। इसके माध्यम से यह भी बताने की शायद कोशिश की गई हो कि मुसलमानों का योगदान भी देश की आजादी में रहा है।
देशभक्ति या आस्था कहिए कि यहां बुजुर्ग लोग भी नजर आए। हालांकि पिकनिक के लिए घूमने आए परिवार और न्यू कपल के लिए यह एक पार्क जैसा सुखद एहसास देने वाला है। उनके लिए कुर्बानियों के ऐतिहासिक महत्व का कोई महत्व साफ दिखाई नहीं पड़ा।

जालियांवाला बाग को सुसज्जित भले बना दिया गया है परंतु दीवारों पर गोलियों के वर्तमान निशान हर देशभक्त को अपने शरीर पर लगे होने जैसा एहसास देने लगता है और जो लोग कहते हैं आजादी अभी अधूरी है उन्हें इस एहसास का अनुभव यहां आकर अवश्य करना चाहिए..

अगली कड़ी शीघ्र

17 सितंबर 2021

रिलायंस किराना दुकान और ईस्ट इंडिया कंपनी की फीलिंग

रिलायंस किराना दुकान और ईस्ट इंडिया कंपनी की फीलिंग

छोटे से कस्बाई शहर बरबीघा में भी रिलायंस स्मार्ट का किराना दुकान खुल गया। उसमें सब्जी, फल, मसाला, दूध, पनीर, घी, मक्खन से लेकर दाल चावल, बिस्कुट, चाय सभी कुछ उपलब्ध है।
निश्चित ही पूंजीवाद का यह एक सुरसा स्वरूप है। सब कुछ अपने कब्जे में कर लेने की कवायद दिखती है। यह ठीक वैसे ही मुक्तखोरी की बात होगी जैसे जियो मोबाइल। अब हर हाल में ₹200 महीना देना ही होगा। अनुभव लेने मैं भी गया। समान खरीद में आधा घंटा लगा तो बिल बनाने और चेक कर निकलने में एक घंटा।
बहुत कुछ जानकारी नहीं मिल सका पर बहुत भीड़ थी । शुभारंभ को लेकर। ₹16 किलो की भिंडी एक ₹9किलो। लहसुन ₹49 तो गोभी भी ₹49 प्रति पीस, चीनी 40 । बाजार से सस्ता । पता किया तो पता चला कि कंपनी का ही निर्देश है कि बाजार से हर कीमत पर सब्जी की कीमत कम रखना है। चाहे खरीद ऊंची कीमत पर ही क्यों ना हो।

छोटे व्यापारियों, फुटपाथ पर काम करने वाले, ठेला पर सब्जी बेचने वाले, ठेला पर फल बेचने वालों के पेट पर लात मारने की यह एक बड़ी कोशिश है। और इस कोशिश से भगवान भी गरीबों को नहीं बचा सकते। आखिर अम्बानी की कंपनी जो है!

एक जानकारी जो नोटिस में शायद ही किसी ने किया वह यह दे रहा हूं कि कोविड-19 में परदेस से पलायन कर अपने घर आए लोगों का एकमात्र रोजगार का साधन छोटा-छोटा किराना दुकान, सब्जी, फल दुकान बना और गांव, घर, शहर के गली मोहल्ले में किराना दुकान की भरमार हो गई। कमाई भले ही 10-50 हो पर इंगेज लोग हो गए। अब उन पर भी आफत आएगी।
उपभोक्ताओं को निश्चित ही पहली नजर में सामान सस्ता मिल जाएगा। परंतु 1 किलो भिंडी के लिए जब मॉल में लोग जाएंगे तो अतिरिक्त सामानों की खरीदारी का अतिरिक्त बोझ भी बढ़ेगा । ₹9 में 1 किलो भिंडी खरीदेंगे तो एक, दो दूसरों का सामान भी खरीद कर निकलेंगे और मुनाफा मेकअप हो जाएगा। यही फंडा पहली नजर में समझ में आया।

ग्राहकों को भी फायदा है। ठंडा और दूध छोटे से शहर में कीमत से अधिक वसूले जाते हैं। दूध ₹4 प्रति लीटर प्रिंट से अधिक दुकानदार लेते हैं । ठंडा में प्रति बोतल ₹5 एक्स्ट्रा अनिवार्य रूप से ठंडा के नाम पर लिया जाता है। यहां ऐसी बात नहीं है। इसका असर होगा। दुकानदारों को इसपे विचार करना चाहिए। एक दिक्कत जो आम तौर पे दुकानदार करते है वह कम वजन देने का है। यहां वह नहीं है। एक बात यह भी की दुकानदारों में गहरी चिंता है। शाम में सभी दुकानदार यहां समझने बुझने आ रहे। आखिर अब दैत्याकार किराना दुकानदार से प्रतिस्पर्धा है। रणनीति तो बदलनी ही होगी।

यहां पर एक बात नहीं होगी कि जब हम किसी ठेला से सब्जी खरीदते हैं तो उसके घर का चूल्हा जलता है। उसके बच्चे पढ़ते हैं। और उसके घर में खुशहाली आती हैं। परंतु जब हम यहां से खरीदेंगे तो देश के सारी पूंजी के 25 फीसद पर कब्जा करके बैठे चंद लोगों के पूंजी में ही हम इजाफा करेंगे। किसी का भला नहीं हो सकेगा।

कुछ-कुछ ईस्ट इंडिया कंपनी जैसी फिलिंग होने लगी है। बात भी वैसा ही है। देश में पूंजीवादी सरकार है। गरीबों की सुनने की कोई बात बिल्कुल ही नहीं है और वर्तमान में कोई गांधीजी भी नहीं है जो स्वदेशी आंदोलन जैसा मुद्दा उठा सकें। यहां तो गरीबों की आवाज नक्कारखाने में तूती की आवाज साबित हो जाती है।

आजादी के बाद जमींदारी उन्मूलन और भूदान आंदोलन जैसे आंदोलनों ने सीलिंग से अधिक जमीन रखने वालों की जमीन पर कब्जा कर लिया। पूंजीवाद की सरकार में देश के 100 पूंजीपतियों के हाथ में 25 फीसद हिस्सा है । पर उसके कब्जे की कोई कल्पना भी नहीं कर सकता । पर एक न एक दिन गरीब के चूल्हे जब खामोश होंगे तो गरीब की आवाज भी बुलंद होगी। लोकतंत्र में माया फैलाकर बहुत दिनों तक इन आवाजों को दबाकर नहीं रखा जा सकता। रिलायंस किराना दुकान में फल, सब्जी बेचने का विरोध तो किया ही जाना चाहिए। परंतु ऐसा करेगा कौन...? जात, धर्म में बांटें लोगों के शोषण की आवाज भला अब कौन, क्यों और किसलिए उठाएगा...? जय श्री राम...

11 सितंबर 2021

विलुप्त हो गई गुरूजी के साथ चकचंदा मांगने की परंपरा, गांव-गांव पूजे जाते थे बुद्धि के देवता गणेश

 अरुण साथी


कई भारतीय संस्कृति और परंपरा विलुप्त भी हो गई। पांच-सात दशक पहले तक ऐसी ही एक संस्कृति और परंपरा का चलन मगध क्षेत्र में गणेश उत्सव चतुर्थी के दिन से शुरू हो जाता था और एक पखवाड़े तक चलता था। इसे चकचंदा का नाम से लोग जानते है। हर गांव के सरकारी अथवा गुरु जी के पाठशाला में बुद्धि के देवता गणेश जी पूजे जाते थे। सरस्वती पूजा का आयोजन हाई स्कूल स्तर पर होती थी।
 
घर-घर घूम कर मांगते थे चकचंदा

भादो शुक्ल पक्ष चतुर्थी के दिन गांव के सभी स्कूल में गणेश की प्रतिमा स्थापित कर पूजा-अर्चना की जाती थी। वही गुरुजी के साथ स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे चकचंदा के लिए गांव में घर-घर जाते थे। जहां गुरु जी को आदर और सम्मान से बैठाने के बाद कहीं अंग वस्त्र तो कहीं आनाज चंदा स्वरूप दिया जाता था।
 
बुजुर्गों को आज भी है याद
इसको लेकर बरबीघा के शेरपर गांव निवासी सत्तर वर्षीय विजय कुमार चांद कहते हैं कि अपने गांव में गुरु जी के साथ हुए चकचंदा मांगने के लिए जाते थे। हाथ में गुल्ली-डंडा लेकर उसे बजाना होता था। गुरु जी चारपाई पर बैठते थे। बच्चे चकचंदा गाते थे । अनाज अथवा वस्त्र इत्यादि अभिभावकों के द्वारा दिया जाता था।
 
65 वर्षीय समाजवादी नेता शिवकुमार कहते हैं कि वह पटना के बाढ़ अनुमंडल अंतर्गत बरूआने गांव में लगन गुरु जी के पिंडा (पाठशाला) पर पढ़ने के लिए जाते थे। गणेश चतुर्थी को चकचंदा मांगने की रस्म होती थी। इसके लिए एक छोटा और एक बड़ा, दो रंगीन डंडा हर बच्चे के हाथ में होता था। जिसे एक निश्चित धुन के साथ एक दूसरे से टकराकर बजाया जाता था। उसमें कपड़े का फीता भी लगा होता था और काफी खूबसूरत लगता था। गुरु जी के प्रति सम्मान की यह एक अनोखी परंपरा थी। गुरु जी बच्चों के साथ 15 दिनों तक घूमते थे। बच्चे चकचंदा गाते थे । उस समय मनोहर पोथी ही प्रमुख पुस्तक होती थी। चकचंदा गाने में अखियां लाल-पियर होलो रे बबुआ। कोठी पर पिटारा देखो इत्यादि गीत शामिल थे।
 
वहीं खोजागाछी निवासी 70 वर्षीय आनंदी पांडे, गोरे सिंह बताते हैं कि वह भी अपने गुरु जी के साथ चकचंदा में जाते थे। भादो चौठ गणेश जी आए, डंडा खेल गुरुजी पठाए यह गाया जाता था। वहीं कवि अरविंद मानव कहते है कि उस समय हमलोग भी निकलते थे। बाउआ रे बउआ लाल लाल झअुआ चकचंदा गाते थे।

04 सितंबर 2021

तेजस ट्रेन में नंग-धड़ंग एमएलए के लूज मोशन का सकारात्मक पक्ष

 तेजस ट्रेन में नंग-धड़ंग एमएलए के लूज मोशन का सकारात्मक पक्ष


हास्य  व्यंग्य
अति आधुनिक तेजस ट्रेन में बिहार के सत्ताधारी पार्टी के एक विधायक जब नंग-धड़ंग अवस्था में घूमते दिखे तो उसकी तस्वीर वायरल करने की अति दुर्भाग्यपूर्ण दुर्घटना घटी। किसी ने इसके सकारात्मक पहलू को नहीं देखा। अब श्रीमान ने बताया कि उनको लूज मोशन हो गया था।  नहीं भी बताते तो लोग मान कर चलते हैं कि जातीय समीकरण और सत्ता के संरक्षण से विधायक बनने पर हाजमा खराब हो ही जाता है। सो इनकाे भी लू मोशन हो गया। वैसे भी बिहारी राजनीति लूज मोशन की शिकार रही है। कभी कभी पीएम मटिरियल बनने के लिए भी लूज मोशन हो जाता है। यह तो अप्राकृतिक प्रक्रिया है।

 सो कौन, कब, कहां बदबू फैला दे, कहा नहीं जा सकता। मंडल, कमंड, जातीय गणना। कितनी बदबू।
 
माना कि वे अर्धनग्न अवस्था में घूमते देखे गए। परंतु यह क्या कम है कि वह पूर्ण रुप से नग्न अवस्था में नहीं दिखाई दिए! यात्रियों ने जब इसका विरोध किया तो उन्होंने मानवता का परिचय देते हुए केवल गाली-गलौज ही की।  अति आधुनिक तेजस ट्रेन के स्पीड का आनंद पूर्ण वस्त्र में कभी नहीं लिया जा सकता। सो इन्होंने प्राकृतिक अवस्था को प्राप्त करते हुए तेजस ट्रेन के अति द्रुतगामी होने का आनंद लेने के लिए केवल अर्धनग्न अवस्था  को चुनकर यात्रियों के साथ-साथ रेल और देश पर अति उपकार किया। भावनाओं को समझें।

29 अगस्त 2021

बहन सूपनखा की नाक नगेंदर ने ही काटी

 बहन सूपनखा  क  नाक नगेंदर ने ही काटी


हास्य व्यंग्य

जमुनालाल विश्वविद्यालय शोधार्थियों के लिए कुख्यात है। एक दिन  कक्ष में  शिक्षा विभाग के निदेशक आए। उन्होंने सवाल किया। बताओ, सूपनखा की नाक किसने काटी? सबको सांप सूंघ गया। तभी कामरेड कनखैया बोला। सर, यह काम नगेंदर ही कर सकता है। वहीं हमेशा जेब में तलवार लिए घूमता है। फिर उसके समर्थन में कक्षा का सबसे मरियल सा दिखने वाला पढ़ाकू अरमिंद भी हाथ खड़ा कर दिया।

बिलकुल सर, मैने अपनी आँखों से देखा। बहन सूपनखा कि नाक नगेंदर ने ही काटी है। इसी बीच अगली बेंच पर हमेशा गुमसुम बैठने वाले शोधार्थी राउल भी खड़ा हुआ। सर, यह सूपनखा कौन है? सभी लोग ठठा कर हंसने लगे।

तभी उटंग पैजामा और सर पर टोपी पहने उरम भी उठा और बोला। यह असहिष्णुता है। सूपनखा जैसी अबला बहन की नाक काट दी गई। बहुत दुर्भाग्यपूर्ण  है। दमितों से अन्याय। जय भीम।

साहब के चेहरे पर असमंजस और अज्ञानता का मिलाजुला भाव आया। चौंक गए। अरे, ऐसी दुर्दशा और उनको पता भी नहीं। फिर उन्होंने वर्ग शिक्षक की तरफ नजरें उठाईं तो शिक्षक महोदय भी हड़बड़ा गए। बोले, जी हाँ सर, जी हाँ सर। बच्चे सही कह रहे हैं, कक्षा में यही सबसे बदमाश है। इसने ही किया होगा।

इस पूरे मसले की शिकायत करने के लिए  पदाधिकारी महोदय डीन के पास पहुंचे।ओमेसी नाम था उनका।सारी बात चपरासी ने चुपके से उन्हें पहले ही बता दी थी। बोले माफ़ करिए सर। नगेंदर ही ऐसा करता है। नाक काटने में वह बहुत माहिर है। अगले दिन अधिकारी महोदय ने मीडिया ब्रीफिंग की। देश में असहिष्णुता का माहौल है, नारी अस्मिता, स्वाभिमान को खतरा है। अगले दिन आंदोलन शुरू हो गया। लोग हाथ में तख्ती लेकर जुटे। कुछ मीडिया चैनल लाइव प्रसारण करने लगे।
उधर, नगेंदर अपने सहपाठियों की सभा को संबोधित कर रहा था। भाइयों एवं बहनों । जब भी राष्ट्र और धर्म के नाक में कोई ऊंगली करेगा। उसकी नाक काट दी जाएगी। राष्ट्रवाद और धर्म हमारी अस्मिता और सह अस्तित्व है। सभी लोग तालियां पीट रहे थे।

25 अगस्त 2021

मोबाइल ने सबकुछ छीना

मोबाइल ने जीवन छीन लिया। जी हाँ! यही सच है। बचपन से पढ़ने लिखने वाला नहीं रहा। होश संभाला तो पढ़ना ही एक मात्र विकल्प दिखा। फिर झोंक दिया। जैसे तैसे। कुछ तो नहीं कर सका तो जीवन की गाड़ी खींचने बुक स्टॉल खोल लिया। यह मेरे पढ़ने के शौक का नतीजा था। अपने नगर का पहला बुक स्टॉल। साथी बुक स्टॉल। उससे पहले साधारण उन्यास पढ़ता था। जिसने सुरेन्द मोहन पाठक और गुलशन नंदा प्रमुख रहे। पाठक जी का किरदार विमल आज भी याद है। और एक सुनील। लपु झंगा पत्रकार। 

खैर, धीरे धीरे साहित्य की अभिरुचि बढ़ी। हंस पढ़ने लगा। फिर रेणु। प्रेमचंद। शरत चंद्र। कमलेश्वर। पढ़ता रहा। जीवन का यह बड़ा बदलाव का दौर रहा।  


खैर, मोबाइल ने सबकुछ छीन लिया। चाह कर भी मोबाइल नहीं छूटता। पढ़ने की लत है पर अब कोशिश करने पे भी एकाग्रता नहीं रहती। 

फिर भी लखनऊ रेलवे स्टेशन पे पसंदीदा पुस्तक दिखी। ले लिया। राग दरबारी। वयं रक्षम।

देखिये कब तक पढ़ता हूँ।

15 अगस्त 2021

अनसुनी कहानी: गरम दल के क्रांतिकारी राजेंद्र प्रसाद का कटा हाथ कोर्ट लेकर आते थे अंग्रेज

अनसुनी कहानी: गरम दल के क्रांतिकारी राजेंद्र प्रसाद का कटा हाथ कोर्ट लेकर आते थे अंग्रेज

अरुण साथी, (बरबीघा, शेखपुरा)
ए मेरे वतन के लोगों जरा आंख में भर लो पानी , जो शहीद हुए हैं उनकी ज़रा याद करो कुर्बानी। आजादी के 75 वें वर्षगांठ के अवसर पर 15 अगस्त को गलियों और शहरों में देशभक्ति गीत गूंजने लगते हैं। इन्हीं देशभक्ति गीतों के द्वारा यह एहसास भी होता है कि देश की आजादी में कितनी कुर्बानियां शहीदों ने दी है। हालांकि बाद में हम इन कुर्बानियों को भूल भी जाते हैं। देश के लिए ऐसे ही कुर्बानी देने वाले एक क्रांतिकारी स्वतंत्रता सेनानी राजेंद्र प्रसाद भी हैं। जिनका हाथ अंग्रेज चिकित्सकों के द्वारा काट दिया गया और फिर कटे हुए हाथ को अंग्रेज कोर्ट में सबूत के रूप में पेश करते थे। यह क्रांतिकारी राजेंद्र प्रसाद बरबीघा के शेरपर गांव निवासी थे।


क्या हुआ था मामला कैसे कटा हाथ

 राजेंद्र प्रसाद के पुत्र विजय सिन्हा कहते हैं कि उनके पिता दसवीं की पढ़ाई करने के लिए अपने ननिहाल कदम कुआं पटना चले गए। उनके मामा वकील और मुख्तार थे। उनकी पढ़ाई लिखाई पटना में शुरू हुई । इसी बीच में भगत सिंह के गरम दल से जुड़े और क्रांतिकारी बन गए। देश के आजादी का संकल्प लिया और अभियान में जुट गए। इसी अभियान में जुटने के बाद एक अंग्रेज अधिकारी के मौत की योजना क्रांतिकारी साथियों के साथ मिलकर बनाई। वह अंग्रेज अधिकारी ट्रेन से आने वाला था। सारी योजना बनाए जाने के बाद बम से उसे उड़ाने की योजना राजेंद्र प्रसाद ने बनाई


बम बनाने की ट्रेनिंग ली

 राजेंद्र प्रसाद भगत सिंह के अभियान के प्रमुख क्रांतिकारी साथी थे। उन्होंने बम बनाने का प्रशिक्षण लिया था। अपने ननिहाल के घर में छुप कर उन्होंने बम बनाए और फिर एक थैले में भरकर अपने एक सरदार साथी के साथ चुपके से बंका घाट की ओर रेल पर आने वाले अंग्रेज को उड़ाने के लिए चल दिए। इसी दौरान भूलवश बम विस्फोट हो गया। इसी बम विस्फोट में उनका एक साथी शहीद हो गया । जबकि राजेंद्र प्रसाद बेहोश होकर वही पीपल पेड़ के पास गिर गए । फिर उन्हें किसी तरह से मामा के सहयोग से हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। इसकी भनक अंग्रेजों को लगते ही अंग्रेजों ने साजिश रची और डॉक्टर के सहयोग से इस साजिश को सफल बनाया। डॉक्टरों ने उनका हाथ काट दिया। साथ ही बताया कि बम विस्फोट से जख्मी हाथ खतरनाक हो गया था। हालांकि यह साजिश के तहत किया गया था। हाथ कटने के बाद राजेंद्र प्रसाद ने यह भी कहा कि उनका हाथ तो कट गया परंतु बम बनाने का आईडिया वे अपने साथियों को देते रहेंगे।

कम्युनिस्ट पार्टी के नेता बने

उसके बाद फिर वह जेल चले गए और लगातार संघर्ष भी किया। बाद में कई आंदोलनों में उनकी भूमिका रही। कोलकाता में भी जाकर अंग्रेज अधिकारी पर बम से हमला किया। स्वतंत्रता सेनानी के इस संघर्ष को आज भी देश नमन कर रहा है। बाद के दिनों में राजेंद्र प्रसाद कम्युनिस्ट पार्टी के क्रांतिकारी अभियान नेता बने और गरीबों के हक की लड़ाई लड़ते रहे । बरबीघा का कम्युनिस्ट पार्टी कार्यालय उनके नाम पर ही आज भी स्थापित है।

यात्रा वृतांत:1: जो कहते हैं आजादी अभी अधूरी है उनको जालियांवाला बाग आना चाहिए

यात्रा वृतांत:1: जो कहते हैं आजादी अभी अधूरी है उनको जालियांवाला बाग आना चाहिए अरुण साथी यात्रा वृतांत की शुरुआत चौथे दिन से कर रहा हूं। पीछ...